What Sri Sri said today

रक्षा बंधन | Raksha Bandhan in Hindi

बुध, 2012 बैंगलोर, भारत (India)

आज श्रावण पूर्णिमा है| इससे पिछली पूर्णिमा ‘गुरु पूर्णिमा‘ गुरु और शिक्षिकों को समर्पित है| उससे पहले बुध पूर्णिमा और उससे पहले चैत्र पूर्णिमा थी| सो यह चौथी पूर्णिमा को श्रवण पूर्णिमा कहा जाता है और यह पूर्णिमा भाई बहन के प्रेम को समर्पित है| साथ ही आज के दिन जनेऊ भी बदला जाता है| जनेऊ बदलने का महत्व है कि यह हमें याद दिलाता है कि हमारी कर्तव्य निष्ठा इन तीन के प्रति है, हमपर तीन ऋण हैं -

  • माता पिता के प्रति,
  • समाज के प्रति और,
  • गुरुदेव के प्रति

हमपर यह तीन ऋण, हमारे यह तीन कर्तव्य हैं - माता-पिता, समाज और गुरुदेव (ज्ञान) के प्रति| जनेऊ हमें हमारे इन तीन ऋणों के प्रति याद दिलाता है|

जब हम ऋण कहते हैं तो ऐसा प्रतीत होता है कि हमने किसी से उधार, कर्ज़ा लिया हुआ है जो वापिस चुकाना है - किन्तु यहाँ ऐसा नहीं है| यहाँ ऋण का अर्थ, तात्पर्य हमारे कर्तव्य, उत्तरदायित्व से है| हमारी पिछली पीढ़ी, आगे आने वाली पीढ़ी के प्रति हमारा कर्तव्य, उत्तरदायित्व| इसीलिए आप कंधे पर जो जनेऊ धारण करते हैं उसमें धागे की तीन डोरियां होती हैं| मेरा शरीर, मन और वाणी पवित्र हों| और आपके कंधे पर यह धागा (जनेऊ) आपको नित्य प्रति आपके कर्तव्य, उत्तरदायित्व का स्मरण कराता है| प्राचीन काल में स्त्रियाँ भी जनेऊ धारण करती थीं| यह प्रथा किसी एक जाती, वर्ग तक सीमित नहीं थी अपितु सभी जातियों, वर्गों के लोग - ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र - जनेऊ धारण करते थे| परन्तु आगे चलकर यह प्रथा कुछ वर्गों में ही सीमित रह गई|

जब किसी का विवाह संपन्न होता है, तब वर को ६ डोरी का जनेऊ दिया जाता है - तीन डोरियाँ अपने लिए और तीन वधु के लिए| वधु को भी इसी प्रकार ६ डोरियाँ वाला जनेऊ मिलना चाहिए पर क्योंकि यह पुरुष प्रधान समाज है, अतः वर पर ही सिर्फ जनेऊ डाला जाता है| प्राचीन काल में स्त्रियों के लिए भी पुरुषों के सामान जनेऊ धारण करने की प्रथा प्रचलित थी - परन्तु अब विवाह पश्चात वर ही वधु के पक्ष का उत्तरदायित्व निभाता है, अर्थात उसके पक्ष का भी जनेऊ धारण करता है|

अतः रक्षा बंधन पर हम राखी बांधते हैं जिसे पश्चिमी सभ्यता मैं फ्रेंडशिप बैंड (friendship band) के नाम से जाना जाता है| यह अभी हाल ही में प्रचलित हुआ है जबकि प्राचीन काल से रक्षा बंधन का पर्व मनाया जाता है| यह धागा बहन भाई की कलाई पर बांधती है और भाई अपनी बहन को रक्षा का वचन देता है| अतः इस पर्व के दिन सभी बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं| बहनें अपने सिर्फ सगे भाई की कलाई के साथ साथ और जिस किसी को भी अपना भाई मानती हैं उन सब की कलाई पर राखी बांधती हैं| यह प्रथा हमारे देश मैं सदियों से प्रचलित है और एक बहुत बड़े पर्व के रूप में श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है|

श्रावण पूर्णिमा के बाद भादों पूर्णिमा आती है और यह भी एक पर्व की तरह मनाया जाता है| उसके बाद अनंत पूर्णिमा अर्थात अनंत के पूनम का चाँद ! और उसके पश्चात आती है शरद पूर्णिमा| इस रात्रि चाँद बहुत अधिक बड़ा और सुन्दर दिखाई देता है| प्रायः अगर किसी का चेहरा बहुत ही बड़ा और दमकता हुआ प्रतीत होता है, तो उसे शरद पूर्णिमा की उपमा से संबोधित से किया जाता है| शरद पूर्णिमा की रात्रि का चन्द्रमा पूरे वर्ष मैं सबसे उत्तम, बड़ा व बेहद खूबसूरत होता है| अगर किसी का व्यक्तित्व अति सौम्य, मधुर, मनमोहक होता है तो प्रायः “शरद पूर्णिमा निभाई जा रही है” कह कर संबोधित किया जाता है| ऐसी मान्यता है की जगत जननी माँ का चेहरा बिलकुल शरद पूर्णिमा के चाँद जैसा है| इस कारण से भी यह अति पावन पूर्णिमा के रूप में मनाई जाता है| इसके पश्चात आती है कार्तिक पूर्णिमा जिस रात्रि दीप जला कर उत्सव मनाया जाता है|अतः प्रत्येक पूर्णिमा का अपना महत्व है और इनके साथ कोई न कोई उत्सव जुड़ा हुआ है|

ऐसी मान्यता है कि शरद पूर्णिमा पर कृष्ण सभी गोपियों के साथ नृत्य करते हैं| हालाँकि गोपियाँ बहुत हैं और कृष्ण मात्र एक, तब कृष्ण ऐसी लीला करते हैं कि लगता है कि वो एक से अनेक में परिवर्तित हो गए हैं ; तब प्रत्येक गोपी को लगता है कि वो कृष्ण के साथ ही नृत्य कर रही है और दिव्य आनंद का अनुभव करती है ! सभी कृष्ण को अपना अभीष्ट मानते हैं और वो एक एक के साथ नृत्य करते हैं| शरद पूर्णिमा कि ऐसी महत्ता है| इस रात्रि खीर बनायी जाती है| फिर उसे चाँदनी में रख कर उसका सेवन किया जाता है और इस प्रकार उत्सव मनाया जाता है|अगर किसी कारणवश आप अपने जीवन को उत्सव में परिवर्तित नहीं कर पा रहे तो, तो चलिए महीने में कुछ दिन ही सही| और अगर यह कुछ दिन भी बहुत ज़्यादा हैं तो कम से कम माह में एक दिन ही सही - पूर्णिमा को तो उत्सव मना सकते हैं - अतः १२ उत्सव एक वर्ष में !

हमारा मन मस्तिष्क चन्द्रमा से जुड़ा हुआ है - इसी कारणवश अमावस्या और पूर्णिमा के दिन हमारे मन में उतार चड़ाव आता है| वेदों में कहा गया है कि “चन्द्रमा मनसो जातः” अर्थात मन चन्द्रमा से नहीं अपितु चन्द्रमा मन से बना हुआ है| इसी कारण से पूर्णिमा और अमावस्या का महत्व है|सम्पूर्ण जीवन विशेष, महत्वपूर्ण है| मैं यह कहूंगा कि ज्ञानी के लिए ही यह जीवन विशेष है, महत्वपूर्ण है|

अतः इस दिन जब जनेऊ बदला जाता है, संकल्प के साथ बदला जाता है कि - हे ईश्वर मुझे ऐसी योग्यता प्रद्दन करें जिससे मेरे प्रत्येक कार्य प्रभावी और प्रसिद्ध हों| कुछ करने के लिए भी योग्य, निपुण होना आवश्यक है| और जब शरीर, वाणी और मन मस्तिष्क शुद्ध होते हैं तब कार्य सिद्ध होते हैं|

चाहे आध्यात्मिक अथवा सांसारिक कार्य हों, मनुष्य में योग्यता, निपुणता होनी चाहिए| और इसे प्राप्त करने के लिए मनुष्य का कर्तव्य परायण होना अति आवश्यक है| एक कर्तव्य परायण, ज़िम्मेदार मनुष्य ही किसी भी कार्य के लिए उपयुक्त है| यहाँ तक कहा जाता है कि “अगर आप किसी लापरवाह, गैर ज़िम्मेदार व्यक्ति को कार्य सौपेगें तो वह अवश्य ही नुक्सान देगा|”

अगर आप एक लापरवाह आदमी को रसोई सौंपेगें और कहेंगे कि अगली सुबह नाश्ता तैयार करना है - तो जब आप नाश्ते के लिए जाएँगे तो कुछ भी तैयार नहीं मिलेगा|

अगर नाश्ता दिन के भोजन के समय परोसा जाए, तो वह व्यक्ति कर्तव्यहीन, गैर ज़िम्मेदार ही हुआ| और एक कर्तव्यहीन, गैर ज़िम्मेदार व्यक्ति चाहे सांसारिक अथवा आध्यात्मिक कार्य हों, उनके योग्य नहीं होता| अतः किसी भी व्यक्ति का कर्तव्य परायण, ज़िम्मेदार होना परम आवश्यक है| और यज्ञोपवीत संस्कार का उद्देश्य आपको आपके कर्तव्य का बोध कराना है|

अतः जनेऊ बदलना (उपकर्म संस्कार) किसी दिखावे के लिए नहीं किया जाता - अपितु पूर्ण जागरूकता, संकल्प के साथ किया जाता है कि - मैं जो कुछ भी करूँगा पूरी कर्तव्य परायणता, ज़िम्मेदारी के साथ करूँगा

Read earlier posts

  • Take Up The Challenge

    जनवरी 6, 2017
    • How to create a divine society
    • About tolerance and intolerance
    • Intellectuals to develop intuition
    • On Sudarshana kriya and Sahaj Samadhi

    Feel Abundant This Dhantheras

    अक्टूबर 28, 2016
    • Feel abundant
    • Abundance attracts Abundance
    • Every victory is through Grace
    • When you win be grateful