ध्यान : शुरुआत के लिये ८ सरल सुझाव | 8 Tips to Get Started with Meditation

शुरुआती दौर में ध्यान करने के सरल उपाय तकनीक

एक गहरे ध्यान के अनुभव के लिए यह आसान सुझाव अत्यंत ही प्रभावशाली है:

  • समय एवं स्थान का चयन करें।
  • पेट को थोड़ा खाली रखें और आराम से बैठें।
  • कुछ वार्मअप/ व्यायाम एवं गहरी सांस के साथ प्रारंभ करें।
  • अधिक मुस्कान रखें। और पढ़े..

क्या आपको पता है, बस थोड़ा समय अपने ध्यान के तैयारी में खर्च करके ध्यान का गहरा अनुभव प्राप्त सकते हैं?

शुरुआती दौर में ध्यान करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं , जिससे आपको घर पर ध्यान करने के लिए मदद मिल सकती हैं।

क्या आँखे बंद करके शांत बैठना कठिन लगता है ? - इसके लिये चिंता न करें आप ऐसें अकेले नहीं है। जो व्यक्ति ध्यान करना सीखना चाहता है, उसके लिए नीचे कुछ सरल उपाय हैं। इस अभ्यास में जैसे आप नियमित होंगे, आप निश्चित ही इसके और गहन में जायेंगे।

शुरुआत इन ८ सरल सुझावों पर अमल करे

  1. सुविधाजनक समय को चुने |Choose a Convenient Time
  2. शांत स्थान चुने| Choose a Quiet Place
  3. आराम से बैठें |Sit in a Comfortable Posture
  4. पेट को खाली रखे | Keep a Relatively Empty Stomach
  5. इसे वार्मअप से शुरू करें| Start With a Few Warm-ups
  6. कुछ लंबी गहरी सांसे लीजिये |Take a Few Deep Breaths
  7. अपने चेहरे पर सौम्य मुस्कान बना कर रखें |Keep a Gentle Smile on Your Face
  8. अपनी आँखों को धीरे धीरे सौम्यता से खोले |Open Your Eyes Slowly and Gently

ध्यान वास्तव में विश्राम का समय है, इसलिये इसे अपनी सुविधा के अनुसार करें। ऐसा समय चुना चाहिए जब एकांत हो और आपको किसी प्रकार की जल्दी नहीं हो।

सूर्योदय और सूर्यास्त का समय जब प्रकृति दिन और रात में परिवर्तित होती है, यह समय ध्यान का अभ्यास करने लिये सबसे आदर्श है।

सुविधाजनक समय के साथ सुविधाजनक स्थान को चुने जहां आप को कोई परेशान न कर सके। शांत और शांतिपूर्ण वातावरण ध्यान के अनुभव को और अधिक आनंदमय और विश्रामदायक बनाता है।

ध्यान के समय सुखद और स्थिर बैठना बहुत आवश्यक है। आप ध्यान करते समय सीधे बैठें और रीड की हड्डी सीधी रखे, अपने कंधे और गर्दन को विश्राम दे और पूरी प्रक्रिया के दौरान आँखे बंद ही रखें। ध्यान करते समय आप आराम से चौकड़ी मार कर (आलती-पालती) बैठ सकते हैं, पद्मासन में बैठने की आव्यशकता नही है।

भोजन से पहले समय ध्यान के लिए अच्छा होता है। भोजन के बाद में आप को नींद लग सकती है। जब आप को काफी भूख लगी हो तो ध्यान करने का अधिक प्रयास न करें। भूख की ऐंठन के कारण आपको इसे करने में कठिनाई होगी और हो सकता है कि पूरे वक्त आप सिर्फ खाने के बारे में सोचे। ऐसें में आप भोजन के दो घंटे उपरांत ध्यान कर सकते हैं।

ध्यान के पहले थोड़ी देर का वार्मअप या सूक्ष्म योग करने से आपके रक्त परिसंचरण में सुधार होता है, शरीर की जड़ता और बैचेनी दूर होती है और शरीर में हल्कापन महसूस होता है। इससे आप स्थिरता के साथ अधिक समय बैठ सकते है।

 
ध्यान के पहले गहरी सांस लेना और छोड़ना और नाड़ी शोधन प्राणायाम करना अच्छा होता है। इससे सांस की लय स्थिर हो जाती है और मन शांतिपूर्ण ध्यान अवस्था में चला जाता है।

अपने चेहरे पर सौम्य मुस्कान लाने से आप अपनेआप में फर्क महसूस करेंगे। एक निरंतर सौम्य मुस्कान से आप आराम औए शांति महसूस करेंगे और यह आपके ध्यान के अनुभव को बढ़ाता है।

जैसे आप ध्यान के अंत में पहुंचे तो अपनी आँखों को खोलने में जल्दी न करें। आँखे खोलने पर मन बाहरी चीजों के तरफ भागने लगता है, इसलिए ध्यान के पश्च्यात आँखे धीरे धीरे खोले। अपने प्रति और वातावरण के प्रति सजग होने के लिये समय लें।

यदि आप जीवन में उत्साह की कमी महसूस कर रहे हैं और आपकी भावनात्मक समस्याएं आपके काम पर असर डाल रही हैं तो आपको ध्यान अवश्य करना चाहिए। आपके दैनिक जीवन की समस्याओं को सँभालने के लिए ध्यान बहुत आवश्यक है। ध्यान सीखने के लिए दिए गए फॉर्म को ज़रूर भरें।