ध्यान (meditation)

ध्यान में डूबने के 6 अद्भुत सुझाव

हो सकता है कि आप ध्यान का अभ्यास प्रतिदिन कर रहे हों, लेकिन कभी-कभी क्या आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि जब आप ध्यान करने बैठते हैं, तो आपका मन आपके विचारों के संसार में उलझा हुआ सा प्रतीत होता है? ध्यान कैसे करना है, यह सीखना पहला कदम है।

 

१. ज़रूरतमंद लोगों की सेवा करें

जिन लोगों को मदद की आवश्यकता होती है,उनके लिए अपना हाथ आगे बढ़ाना सदैव संतुष्टि प्रदान करता है। जब आप ऐसे लोगों के पास जाते हैं, जिन्हें सहायता की आवश्यकता है, तब आपको खुशी महसूस होती है और आपके भीतर एक सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। आत्मा के विस्तार का कारण यह है कि जब आप सेवा करते हैं और किसी व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लाते हैं, तब आपको बहुत अच्छी तरंगें और आशीर्वाद प्राप्त होता है। सेवा करने से योग्यता आती है और इस योग्यता से आपको ध्यान में गहरे अनुभव होते हैं।

अनुभव : " जब मैं सेवा करती हूँ,तो मुझे बहुत संतुष्टि मिलती है,जिसके कारण मैं खुश और शांत रहती हूं।जब मैं खुश और शांत होती हूं,तब निश्चित रूप से मुझे ध्यान में गहराई का अनुभव होता है। "

अनुभव :  शिल्पी मदान

अब ध्यान करना है बहुत आसान ! आज ही सीखें !

२. मौन की गूँज सुनें 

जब आप सूर्योदय को देखें, तो अपनी दृष्टि को विशाल और शांत आकाश की ओर ही रखें। यह करते हुए, आप अपने भीतर गहरे मौन, उदय होते हुए सूर्य के साथ एकता और प्रातः काल की शांति को महसूस करें। स्थिरता और मौन के इन कुछ क्षणों में आप प्रकृति के सौन्दर्य में डूब जाते है और स्वयं को भूल जाते हैं। इन क्षणों की व्याख्या शब्दों में नहीं की जा सकती है। इन क्षणों में बाहरी सौंदर्य को देखते हुए,आप अपने भीतर के सौन्दर्य को देख पाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मौन में, मन में विचार कम आते हैं और मन स्थिर हो जाता है।अधिकतर समय,हमारा मन बड़बड़ में व्यस्त रहता है और हमारे संवेगी अंग जानकारी जुटाने में व्यस्त रहते हैं। इससे हमारे मन में बहुत अधिक विचार आते हैं और मन पर घटनाओं की छाप पड़ने लगती है। मौन ध्यान का पूरक है। जब आप मौन में होते हैं,तो आपके मन की गति धीमी हो जाती है और आप सरलता से गहरे ध्यान में चले जाते हैं। मौन और ध्यान,दोनों का एकसाथ सरलता से अनुभव करने के लिए आपको आर्ट ऑफ लिविंग पार्ट - २ कार्यक्रम करना चाहिए।

" कई बार मैं स्वयं को अनंत विचारों की पगडंडी में उलझा हुआ सा महसूस करता हूँ।मौन में रहने से विचारों की बौछार धीरे - धीरे कम होने लगती है और मुझे गहरे ध्यान का अनुभव होता है। "

अनुभव :  हितांशी सचदेव

३ . नियमित योगाभ्यास करें 

क्या आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि कभी - कभी ध्यान करते समय आपको बहुत बेचैनी होती है और आप गहरे ध्यान में नहीं जा पाते हैं? इसका कारण यह है कि लंबे समय तक कार्य करने से आपके शरीर में अकड़न और दर्द होने लगता है। जिससे आपको बेचैनी होती है। कुछ योगासनों को करने से आपके शरीर की अकड़न चली जाती है और आपकी बेचैनी समाप्त हो जाती है। इससे आपका मन स्थिर हो जाता है और आपको ध्यान में गहराई का अनुभव होता है।

४. संतुलित आहार की आदत डालें 

उन दिनों के बारे में सोचें,जब आपने तला हुआ और मांसाहारी भोजन करने के बाद ध्यान किया और फिर उन दिनों के बारे में सोचें,जब आपने हल्का और स्वास्थ्यवर्धक भोजन करने के बाद ध्यान किया था।आप इस बात पर ध्यान दें कि इन दोनों ही अवस्थाओं में ध्यान करने की गुणवत्ता में बहुत अधिक भिन्नता है। इसका कारण यह है कि आपके भोजन का आपके मन की अवस्था पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

एक ध्यान कर्ता के रूप में आपके भोजन में अनाज, हरी सब्जियां,ताज़े फल,सलाद और सूप इत्यादि शामिल होने चाहिए। मुख्य तौर पर वह भोजन ग्रहण करें,जो हल्का,पचने में आसान और उच्च प्राण ( जीवन ऊर्जा )प्रदान करता है।

५. सत्संग को अपनी जीवनशैली में शामिल करें 

यह एक माना हुआ तथ्य है कि भिन्न-भिन्न  प्रकार का संगीत सुनने से अलग-अलग तरह की भावनाएं उत्पन्न होती हैं। हम लगभग 90 % आकाश तत्व के बने हैं। इसलिए हमारे ऊपर संगीत का गहरा प्रभाव पड़ता है।सत्संग में गाने से भावनाओं की शुद्धि होती है और आप अपने भीतर विस्तार की भावना को महसूस करते हैं। छोटा मन,जो लगातार बड़बड़ करता रहता है,मौन हो जाता है और जब आप ध्यान करते हैं,तब आपको गहरा अनुभव होता है।

६. प्रतिदिन ध्यान करने का समय सुनिश्चित कर लें 

अनुशासन रखना और अपने अभ्यास का सम्मान करना गहरे ध्यान का अनुभव करने की कुंजी है। प्रतिदिन एक निश्चित समय पर लगातार ध्यान करने से गहरे ध्यान का मार्ग खुल जाता है।

अनुभव : " पहले, मैं दिन के अलग - अलग समय पर ध्यान करती थी।पिछले कुछ महीनों से, मैं प्रतिदिन दोपहर का भोजन करने से पहले ध्यान करती हूँ और मैंने यह देखा कि एक ही समय पर ध्यान करने से ध्यान बहुत अच्छा और गहरा होता है। "

अनुभव : दिव्या सचदेव

गुरुदेव श्री श्री रविशंकर द्वारा दी गई ज्ञान की वार्ताओं से प्रेरित

प्रियदर्शिनी हरिराम,संकाय,आर्ट ऑफ लिविंग,द्वारा दी गई निविष्टियों के अनुसार

लगातार ध्यान का अभ्यास करने से तनाव संबंधी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं और आपके मन को गहरा विश्राम मिलता है तथा शरीर - मन तंत्र फिर से युवा हो जाता है।आर्ट ऑफ लिविंग का सहज समाधि ध्यान विशेष रूप से बनाया गया कार्यक्रम है,जिससे आपको अपने भीतर की गहराई में जाकर अपने असीमित सामर्थ्य को पहचानने में मदद मिलती है।

अपने आसपास आर्ट ऑफ लिविंग केंद्र खोजें और वहां सहज समाधि ध्यान कार्यक्रम करें।

    अब ध्यान करना है बहुत आसान आज ही सीखें !

    हमारे ध्यान कार्यक्रम सहज समाधि ध्यान सहज . आनंददायक . प्रभावशाली
    अब ध्यान करना है बहुत आसान ! आज ही सीखें !