ध्यान (meditation)

हरि ॐ ध्यान

The importance of Om Namah Shivay

हमारा पूरा अस्तित्व प्राण सकती या सूक्ष्म जीवनी शक्ति के कारण कार्य करता है। प्राण हमारी प्रणाली में सूक्ष्म नाड़ियों और ऊर्जा केंद्रों (चक्रों) के माध्यम से प्रवाहित होता है। हमारे अंदर हजारों नाड़ियाँ और कई चक्र हैं। प्रत्येक मनुष्य में अपार ऊर्जा होती है। मेरुदंड के आधार पर संचित इस ऊर्जा को कुंडलिनी कहते हैं। हरि ॐ ध्यान हमें इन चक्रों को सक्रिय करने में मदद करता है।

 

अब ध्यान करना है बहुत आसान ! आज ही सीखें !

 

'हरि' का अर्थ है 'हटाने वाला'। जब कोई उनका नाम याद करता है और फिर उनका जप करता है, तो पाप, कर्म और बुरे ज्योतिषीय प्रभाव मिट जाते हैं। और कष्ट दूर होते हैं। '' मौलिक ब्रह्माण्डीय स्पंदन है जिससे संपूर्ण ब्रह्माण्ड और सारी सृष्टि उत्पन्न हुई है। 'हरि ॐ' काफी प्रसिद्ध मंत्र है। 'हरि ॐ' एक सार्वभौमिक मंत्र है जो दुखों को दूर करता है। इस मंत्र में ब्रह्माण्डीय स्पंदन है। 'हरि ॐ' ध्यान द्वारा प्राण एक ऊर्जा केंद्र से दूसरे ऊर्जा केंद्र में गति करता है।

रीढ़ के साथ सात मुख्य ऊर्जा केंद्र या 'चक्र' होते हैं। प्राण, चक्रों के माध्यम से शरीर में ऊपर की ओर यात्रा करता है। प्रत्येक चक्र में सकारात्मक के साथ-साथ नकारात्मक ऊर्जा भी होती है। उदाहरण के लिए, मूलाधार चक्र, हमारी रीढ़ के आधार पर स्थित ऊर्जा केंद्र जड़ता और उत्साह के दोनों के रूप में प्रकट होता है। इन चक्रों के बारे में अधिक जानने और ‘हरि ॐ’ ध्यान सीखने के लिए, एडवांस्ड मैडिटेशन कार्यक्रम और श्री श्री योग कार्यक्रम करें।

श्री श्री रवि शंकर जी द्वारा निर्देशित हरि ॐ ध्यान आर्ट ऑफ़ लिविंग एप पर उपलब्ध है।

 

    अब ध्यान करना है बहुत आसान आज ही सीखें !

    हमारे ध्यान कार्यक्रम सहज समाधि ध्यान सहज . आनंददायक . प्रभावशाली
    अब ध्यान करना है बहुत आसान ! आज ही सीखें !